Fri. May 24th, 2024
कैप्शन: करनाल जिला के गांव सौंकड़ा में शनिवार को सामुदायिक केंद्र का शिलान्यास करते हुए बिजली मंत्री रणजीत सिंह चौटाला। 2. करनाल जिला के गांव सौंकड़ा में शनिवार को ग्रामीणों को संबोधित करते हुए बिजली मंत्री रणजीत सिंह चौटाला।

बोले : लाल डोरा से 3 किमी की दूरी वाले डेरों को भी देंगे बिजली कनेक्शन

तरावड़ी, 7 अक्तूबर (रोहित लामसर)।बिजली एवं जेल मंत्री श्री रणजीत चौटाला ने कहा है कि प्रदेश में राजस्व रिकार्ड अनुसार 6307 गांव है जिनमें से 5700 में 24 घंटे बिजली उपलब्ध कराई जा रही है। लाईन लॉस 31 प्रतिशत से घटकर 9 प्रतिशत रह गया है। एक प्रतिशत लाईनलॉस घटने से सरकार को 275 करोड़ रुपये की बचत होती है। अब विद्युत निगम घाटे से उबर चुका है और 2 हजार करोड़ के मुनाफे में है। लाल डोरा से तीन किमी दूर स्थिति डेरों को भी अब बिजली कनेक्शन दिये जायेंगे। चौटाला गांव सौंकड़ा में सिख सामुदायिक केंद्र का शिलान्यास करने के बाद ग्रामीणों को संबोधित कर रहे थे। इस मौके पर विधायक धर्मपाल गौंदर, सरपँच प्रतिनिधि भूपेंद्र सिंह लाडी, तरावड़ी नगरपालिका चेयरमैन वीरेंद्र बंसल, ब्लाक समिति चेयरमैन प्रवीन डबरथला, श्यामगढ़ की सरपंच गुल ढिल्लों, मास्टर अमर सिंह, जितेंद्र सिंह आदि मौजूद थे। उन्होंने कहा कि सरकार ने किसानों की लोड बढ़ाने की मांग को पूरा किया है। घरों, स्कूलों, तालाबों आदि स्थानों के ऊपर से गुजर रही हाई वोल्टेज तारों को सरकार अपने खर्च पर हटवायेगी। इस कार्य के लिये 151 करोड़ रुपये की राशि निर्धारित की गई है। मंत्री ने कहा कि जो डेरों/ढाणियां गांव के लाल डोरा की सीमा से तीन किमी की दूरी पर हैं उन्हें भी बिजली कनेक्शन दिया जायेगा और जो तीन किमी से अधिक की दूरी  पर हैं वहां 50 प्रतिशत खर्च लोगों को खुद उठाना होगा बाकि 50 प्रतिशत सरकार स्वयं वहन करेगी। बिजली मंत्री ने कहा कि दिल्ली में रहने को जगह नहीं है और वहां की इंडस्ट्री हरियाणा के सोनीपत, पानीपत, करनाल, रेवाड़ी, बहादुरगढ़, गुडग़ांव, झज्जर, मानेसर आदि स्थानों पर शिफ्ट हो रही है। इंडस्ट्री संचालकों को बिजली हरियाणा उपलब्ध करा रहा है। इन शहरों में सडक़ों के दोनों ओर हजारों फ्लैट्स बने हैं। एक-एक फ्लैट में चार-चार कमरे हैं जो वातानुलित हैं। दिल्ली की आबादी का एक बड़ा भाग इन फ्लैट्स में रहने लगा है, इन्हें भी हरियाणा ही बिजली दे रहा है।उन्होंने बताया कि हर साल 3 हजार मेगावाट खपत बढ़ रही है। थर्मल  में उत्पादित बिजली का खर्च 5 रुपये प्रति यूनिट आता हैजबकि किसानों को दस पैसे प्रति यूनिट बिजली दी जा रही है। सरकार का टयूबवैलों का बिजली खर्च 5918 करोड़ रुपये है जबकि किसानों से सरकार 108 करोड़ रुपये ले रही है। मंत्री के अनुसार पिछले 8 साल में सरकार ने बिजली की दरों में इजाफा नहीं किया जबकि इस दौराना डीजल और पैट्रोल के दाम बढ़े हैं। मुफ्त बिजली देना संभव नहीं है। बिजली मंत्री के अनुसार देश में निर्मित हैक्सामीटर जैसी 60 प्रतिशत बड़ी मशीनें, 53 जेसीबी, 50 प्रतिशत कारें, 60 प्रतिशत मोटर साइकिल, 32 प्रतिशत ट्रैक्टरों का निर्माण हरियाणा में होता है। रणजीत चौटाला के अनुसार केंद्र में जब भी गठबंधन की सरकार बनी है तभी देश 10 साल पीछे गया है। यदि 26 पार्टियों के गठबंधन की सरकार बन गई तो सहज अंदाजा लगाया जा सकता है कि देश का क्या होगा। उनका मानना कि भाजपा के बिना न ऊपर की और न नीचे की सरकार बनेगा। लोगों से अपील की कि जात-पात से ऊपर उठकर देश के विकास की सोचें। उन्होंने विद्युत निगम के अधिकारियों को निर्देश दिये कि गांव में खंभों, बिजली तार, कंडक्टर अथवा ट्रांसफार्मर बदलने संबंधी जितनी भी शिकायतें हैं उनकातीन दिन के भीतर समाधान करें। विधायक धर्मपाल गोंदर ने इस मौके पर कहा किसानों को कनेक्शन देते समय खंभों आदि पर होने वाले खर्च पर 50 प्रतिशत सबसिडी दी जाये और टयूबवैलों पर किसानों को एक बल्ब लगाने की इजाजत दी जाये। इस समय बल्ब लगाने पर विद्युत निगम किसानों पर जुर्माना लगा देता है। उन्होंने बताया कि निगम हर गांव में ई-लाइब्रेरी स्थापित कर रहा है। प्रदेश में 35 लाईब्रेरी बन चुकी हैं। नीलोखेड़ी हलके के हिस्से दो ई-लाइब्रेरी आई थीं। एक निसिंग में और दूसरी समाना बाहू में तैयार हो चुकी है। इससे पूर्व समाज सेवा भूपेंद्र सिंह ने मंत्री के सम्मुख गांव के विकास के लिये विशेष ग्रांट देने, पीएचसी और पशु अस्पताल बनवाने की मांग की। इस अवसर पर विद्युत निगम के अधीक्षक अभियंता कशिक मान, बीडीपीओ नरेंद्र कुमार, पूर्व सरपंच अमरजीत, पंकज शर्मा आदि मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *