Fri. May 24th, 2024
फोटो :- जानकारी देते डा. मुनीष बंसल।

बोले :- ज़्यादा सर्दी और ज़्यादा गर्मी दोनों ही स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक

करनाल, 13 अक्तूबर (कमल शर्मा)। पूर्ण अस्पताल तरावड़ी के सी.एम.डी. डा. मुनीष बंसल ने कहा कि बदलते मौसम में सेहत का ख्याल रखना जरूरी है। गुनगुनी सर्दी की शुरुआत हो गई है, ऐसे में बच्चों से लेकर बुजुर्गों तक सभी को बचाव की जरूरत होती है। उन्होंने कहा कि सर्दियों के मौसम में ज्यादा से ज्यादा ऑर्थराइटिस, अस्थमा, हार्ट की प्रॉब्लम और टॉन्सिल्स के मरीजों को ज्यादा बचाव की जरूरत होती है। इस मौसम में ड्राई स्किन, सर्दी जुकाम, शरीर में दर्द और हाइपोथर्मिया जैसे बदलाव भी होने लगते हैं। पूर्ण अस्पताल तरावड़ी के सी.एम.डी. डा. मुनीष बंसल तरावड़ी में मरीजों को बीमारियों से बचाव के टिप्स दे रहे थे। उन्होंने कहा कि ज़्यादा सर्दी और ज़्यादा गर्मी दोनों ही स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक है। मगर एक ही मौसम में गर्मी और सर्दी दोनों का एहसास हो, तो समझ लें कि ऐसा मौसम और भी ज़्यादा ख़तरनाक है। डा. मुनीष बंसल ने कहा कि कभी तो बहुत ज़्यादा ठण्ड लगती है और कभी गर्मी इसलिए इस समय बीमार होने का सबसे ज़्यादा डर रहता है। ये वो मौसम है जब ज़्यादातर घरों में परिवार में किसी को खांसी हो रही है, तो किसी को बुखार। दरअसल, कभी सर्दी और कभी गर्मी शरीर को कई तरह से बीमार कर देती है। इस वक्त रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हो, तो सांस से जुड़ी दिक्कतें खासतौर पर परेशान करती हैं। ऐसे मौसम में सांस फूलना, छींकें आना, अस्थमा और खांसी के साथ पुरानी एलर्जी भी सेहत को प्रभावित करती है। ब्लड प्रेशर, दिल और दिमाग की बीमारियां भी ऐसे मौसम में खूब परेशान करती हैं। अब ऐसे में ये जरूरी है कि गर्मी और सर्दी के इस मिले जुले मौसम में खुद का ख्याल अच्छे से रखा जाए। अपने परिवार और खुद को स्वस्थ रखने के लिए इस वक़्त बहुत सी बातों का ध्यान रखना जरुरी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *