Fri. May 24th, 2024

उचाना, ब्यूरो। 9 अक्टूबर को किसानों ने संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला के कार्यालय उचाना पर पहुंचे थे। वहां डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला से मिलने का समय मांगा गया। समय ना मिलने कारण किसानों ने चार दिन का अल्टीमेट देकर धरना शुरू कर दिया था। आज तक समय नहीं मिलने के कारण किसानों ने फैसला किया कि किसान अनिश्चित कालीन धरने के अनुसार जेजेपी कार्यालय उचाना के सामने धरना देते रहेंगे किसानों की मुख्य मांग है कि जो किसानों का फसल खराबी का मुआवजा अभी तक नहीं आया है, वह सारा मुआवजा जल्दी से किसानों के खाते में डलवा दिया जाए। किसानों ने धरने पर कहा कि या तो उनकी मांग को जल्दी से माना जाए। नहीं तो किसान राजस्थान चुनाव में डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला का विरोध करने के लिए वहां पहुंचेंगे। किसानों ने कहा कि अगर जल्दी से जल्दी डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला उनसे मिलकर इस समस्या का समाधान नहीं निकालता है तो वह जेजेपी कार्यालय उचाना को ताला भी जड़ सकते हैं। रोड़ को जाम कर सकते हैं, ट्रेनों को रोक सकते हैं या कोई अन्य गतिविधि कर सकते हैं। किसानों ने कहा कि वह राजस्थान चुनाव में जाकर दुष्यंत चौटाला का दुष्प्रचार करेंगे। रवि आजाद ने कहा कि हरियाणा में जेजेपी का सुपड़ा साफ हो चुका है। दुष्यंत चौटाला ने हरियाणा को नहीं सत्ता को चुना। यहां सुपड़ा साफ हुआ तो एक विशेष एजेंडे के साथ राजस्थान में जा रहे हैं, क्योंकि ये किसान कौम के दुश्मन हैं। रवि आजाद ने कहा कि नागौर में तेजाजी महाराज का मंदिर बन रहा था। अजय चौटाला वहां पर चांदी की नकली ईंट नींव में रख कर आ गए थे। बाद में पता चला नकली ईंट है। हरियाणा में किसान विरोधी घोषित हो चुके हैं डिप्टी सीएम। राजस्थान का आदमी दिमाग से वोट डालता है। हरियाणा का तो फिर भी दिल से वोट डाल देता है। राजस्थान में एक अजेंडें के अनुसार भाजपा को फायदा पहुंचाने के लिए जेजेपी पहुंच रही है। लेकिन किसान इस एजेंट को सिरे नहीं चढ़ने देंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *