Sun. May 19th, 2024
फोटो :- डबल चाबी बासमती राईस के डायरैक्टर पुष्कर गोयल।

करनाल, 13 अक्तूबर (छाया शर्मा)। डबल चाबी बासमती राईस के डायरैक्टर पुष्कर गोयल ने कहा कि महाराजा अग्रसेन जी को समाजवाद का अग्रदूत कहा जाता है। अपने क्षेत्र में सच्चे समाजवाद की स्थापना हेतु उन्होंने नियम बनाया था कि उनके नगर में बाहर से आकर बसने वाले प्रत्येक परिवार की सहायता के लिए नगर का प्रत्येक परिवार उसे एक सिक्का व एक ईंट देगा। जिससे आने वाला परिवार स्वयं के लिए मकान व व्यापार का प्रबंध कर सके। उन्होंने कहा कि महाराजा अग्रसेन ने शासन प्रणाली में एक नयी व्यवस्था को जन्म दिया था। उन्होंने वैदिक सनातन आर्य सस्कृति की मूल मान्यताओं को लागू कर राज्य में कृषि-व्यापार, उद्योग, गौ पालन के विकास के साथ-साथ नैतिक मूल्यों की स्थापना की थी। डबल चाबी बासमती राईस के डायरैक्टर पुष्कर गोयल तरावड़ी में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि महाराजा अग्रसेन जी बचपन से ही अपनी प्रजा में बहुत लोकप्रिय थे। वे एक धार्मिक, शांति दूत, प्रजा वत्सल, हिंसा विरोधी, बली प्रथा को बंद करवाने वाले, करुणानिधि, सब जीवों से प्रेम, स्नेह रखने वाले दयालू राजा थे। डबल चाबी बासमती राईस के डायरैक्टर पुष्कर गोयल ने कहा कि महाराजा अग्रसेन एक सूर्यवंशी क्षत्रिय राजा थे। जिन्होंने प्रजा की भलाई के लिए वणिक धर्म अपना लिया था। महाराज अग्रसेन ने नाग लोक के राजा कुमद के यहां आयोजित स्वयंवर में राजकुमारी माधवी का वरण किया। इस विवाह से नाग एवं आर्य कुल का नया गठबंधन हुआ। महाराजा अग्रसेन समाजवाद के प्रर्वतक, युग पुरुष, राम राज्य के समर्थक एवं महादानी थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *