Wed. May 22nd, 2024

अंबाला में प्रशासन और किसान आमने-सामने है। धान के अवशेषों में आग लगाने पर प्रशासन की कार्रवाई से खफा किसानों की गुरुद्वारा मर्दों साहिब में मीटिंग हुई, जिसमें किसानों ने प्रशासन को आग लगाने की खुली चेतावनी दी है। मीटिंग के बाद नवदीप सिंह जलबेहड़ा ने सोशल मीडिया पर आकर SDO को खेत में ही आग में जलाने की धमकी दी।

प्रशासन को खुली चेतावनी देते हुए नवदीप ने कहा कि किसान ऐसे ही खेतों में आग लगाएंगे। अगर प्रशासन में हिम्मत है तो रोक कर दिखाए। जिस DC और SDO में हिम्मत है वह रोक कर देख लें। फैक्ट्री वाले पूरे साल प्रदूषण फैलाते हैं, उनके ऊपर कोई कार्रवाई नहीं होती और किसान 15 दिन पराली में आग लगाता है तो उनके खिलाफ कार्रवाई करते हुए चालान किए जाते हैं।

किसानों के पास आग लगाने के अलावा कोई विकल्प नहीं है। किसान अपने खेतों में आग लगाए, कोई जुर्माना नहीं भरेगा। इसके बाद उन्होंने गांव माजरी में धान के अवशेषों में आग लगाई।
भारतीय किसान यूनियन शहीद भगत सिंह के प्रधान अमरजीत सिंह मोहड़ी, जिला प्रधान गुरमीत सिंह माजरी समेत भारी संख्या में उपस्थित हुए किसानों ने कहा कि जिन किसानों के साथ धक्का होगा, उनके साथ भारतीय किसान यूनियन शहीद भगत सिंह खड़ी होगी।
किसानों से वसूल किया 57,500 रुपए जुर्माना
सरकार धान के अवशेषों में आग लगाने वाले किसानों पर सख्ती से पेश आ रही है। अंबाला जिले में 52 जगह आग लगाने की घटना सामने आने के बाद 22 चालान करते हुए किसानों पर 57 हजार 500 रुपए जुर्माना लगाया गया है। कृषि विभाग की टीम को बंधक बनाने वाले किसानों के खिलाफ मामला भी दर्ज किया गया है।
कृषि विभाग के अधिकारियों की छुट्टी रद्द
जिले भर में अवशेषों में आग लगाने की घटना से निपटने के लिए विभाग द्वारा 12 टीमें गठित की गई हैं। साथ ही अधिकारियों/कर्मचारियों की छुटि्टयां रद्द कर दी गई हैं। खास बात ये है कि कार्रवाई के दौरान पुलिस भी कृषि विभाग के अधिकारियों के साथ उपस्थित रहेगी। विदित हो कि किसानों ने लगातार 2 दिन कृषि विभाग की टीम को बंधक बना कार्रवाई का विरोध किया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *